“युवाओं, जवानी की आग पैदा करो…” – ओशो

भारतीय युवाओं, जवानी की आग पैदा करो…

हिंदुस्तान की जवानी तमाशबीन है। हम देखते रहते हैं खड़े होकर, जीवन का जैसे कोई जुलूस जा रहा है। पैसिव, रुके हैं, देख रहें हैं; कुछ भी हो रहा है! सारे मुल्क में कुछ भी हो रहा है। शोषण हो रहा है, जवान खड़ा हुआ देख रहा है! अन्याय हो रहा है जवान खड़ा हुआ देख रहा है। बेवकूफियां हो रही हैं, जवान खड़ा देख रहा है! बुद्धिहीन लोग देश को नेतृत्व दे रहे हैं, जवान खड़ा हुआ देख रहा है! जड़ता धर्मगुरु बन कर बैठी है, जवान खड़ा हुआ देख रहा है! सारे मुल्क के हितों को नष्ट किया जा रहा है और जवान खड़ा हुआ देख रहा है! यह कैसी जवानी है?


जिंदगी के खून के पीने वाले तत्वों से लड़ना पड़ेगा : कुरूपता से लड़ना पड़ेगा, असौंदर्य से लड़ना पड़ेगा, शोषण से लड़ना पड़ेगा, जिंदगी को विकृत करने वाले तत्वों से लड़ना पड़ेगा, जिंदगी के खून को पीने वाले तत्वों से लड़ना पड़ेगा। तो आदमी जवान होता है। वह सागर की लहरों पर जीता है फिर। फिर तूफानों में जीता है। फिर आकाश में उसकी उड़ान होनी शुरू होती है।
जवानी सदा लड़ती है और निखरती है : क्या लड़ोगे तुम? व्यक्तिगत लड़ाई ही नही है कोई, सामूहिक लड़ाई की तो बात अलग है। कोई फाइट नही है। और बिना फाईट के, बिना लड़ाई के जवानी निखरती नही। जवानी सदा लड़ती है और निखरती है। जितना लड़ती है उतना निखरती है। सुंदर के लिए, सत्य के लिए, शिव के लिए जवानी जितनी लड़ती है, उतनी निखरती है। लेकिन क्या लड़ोगे?
दो कोड़ी की जवानी में बरबाद हो जाओगे : तुम्हारे पिता आ जाएंगे, तुम्हारी गर्दन में रस्सी डाल कर कहेंगे- इस लड़की से विवाह कर लो! और तुम घोड़े पर बैठ जाओगे। तुम जवान हो? और तुम्हारे बाप जाकर कहेंगे कि दस हजार रुपए लेंगे इस लड़की से! और तुम मजे से गिनती करोगे कि दस हजार में स्कूटर खरीदें कि क्या करें? तुम जवान हो? ऐसी जवानी दो कोड़ी की जवानी।
जिस लड़की को तुमने कभी चाहा नही, जिस लड़की को तुमने कभी प्रेम नही किया, जिस लड़के को तुमने कभी चाहा नही, जिस लड़के को तुमने कभी छुआ नही, उस लड़के से विवाह करने के लिए या उस लड़की से विवाह करने के लिए तुम पैसे के लिए राजी हो रहे हो? समाज की व्यवस्था के लिए राजी हो रहे हो? तो तुम जवान नही हो।
तुम मिट्टी के लोंदे हो, जिसको कही भी सरकाया जा रहा है : तुम्हारी जिंदगी में कभी वे फूल नही खिलेंगे जो युवा मसितष्क जानता है। तुम कभी उन आकाश को नही छुओगे जो युवा मसितष्क छूता है। तुम हो ही नही; तुम मिट्टी के लोंदे हो, जिसको कही भी सरकाया जा रहा है और कही भी लिया जा रहा है। तुम चुपचाप मानते चले जा रहे हो कुछ भी! न तुम्हारे मन में संदेह, न जिज्ञासा है, न संघर्ष है, न पुकार है, न पूछ है, न इंक्वायरी है- कि यह क्या हो रहा है? कुछ भी हो रहा है, हम देख रहे हैं खड़े होकर! नही ऐसे नही जवानी पैदा होती है।
जवानी संघर्ष से पैदा होती है : इसलिए दूसरा सूत्र में तुमसे कहता हूं और वह यह कि जवानी संघर्ष से पैदा होती है। संघर्ष गलत के लिए भी हो सकता है, और तब जवानी कुरूप हो जाती है। संघर्ष बुरे के लिए भी हो सकता है, तब जवानी विकृत हो जाती है। संघर्ष अंधेरे के लिए भी हो सकता है, तब जवानी आत्मक्रांति कर लेती है। लेकिन संघर्ष जब सत्य के लिए, सुंदर के लिए, श्रेष्ठ के लिए होता है, संघर्ष जब परमात्मा के लिए होता है, संघर्ष जब जीवन के लिए होता है, तब जवानी सुंदर, स्वस्थ, सत्य होती चली जाती है।
लड़ो सत्य के लिए : हम जिसके लिए लड़ते हैं, अंतत: अंतत: हम वही हो जाते हैं। लड़ो सुंदर के लिए और तुम सुंदर हो जाओगे। लड़ो सत्य के लिए और तुम सत्य हो जाओगे। लड़ो श्रेष्ठ के लिए, और तुम श्रेष्ठ हो जाओगे। और मत लड़ो- तुम खड़े-खड़े सड़ोगे और मर जाओगे और कुछ भी नही होओगे। जिंदगी संघर्ष है और जिंदगी संघर्ष से ही पैदा होती है। फिर जैसा हम संघर्ष करते हैं, हम वैसे ही हो जाते हैं।
जवानी नही है, इसलिए कुछ भी हो रहा है : हिंदुस्तान में कोई लड़ाई नही है, कोई फाइट नही है! हिंदुस्तान के मन में कोई भी लड़ाई नही है! सब कुछ हो रहा है, अजीब हो रहा है। हम सब जानते हैं, देखते हैं- सब हो रहा है। और होने दे रहे हैं। अगर हिंदुस्तान की जवानी खड़ी हो जाए तो हिंदुस्तान में फिर ये सब नासमझियां नही हो सकती जो हो रही हैं। एक आवाज में टूट जाएगी। चूंकि जवानी नही है, इसलिए कुछ भी हो रहा है।

– ओशो

[ संभोग से समाधि की ओर, प्रवचन 11 ]

965 Total Views 1 Views Today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: