“Proof For God !” – OSHO

God is not a syllogism. God is not a conclusion. God is an experience of beauty, of truth, of good, of consciousness. Where are you looking for the proofs? Your very being is the only proof. The seeker is the sought. God resides in you as you. God is a tree in a tree and a dog in a dog and a man in a man. God is all these things. God is this whole.

Read more

“वासना:: कुत्ता और हड्डी” – ओशो

तुम्हारी हालत कुत्ते जैसी हो गयी है। कुत्ते को देखा है? सूखी हड्डियां चूसता है, जिनमें कुछ रस नहीं है।

Read more

एकांत और अकेलेपन – ओशो

“जब भी एकांत होता है, तो हम अकेलेपन को एकांत समझ लेते हैं। और तब हम तत्काल अपने अकेलेपन को

Read more

“रात्रि ध्यान” – ओशो

यह विधि बहुत-बहुत बुनियादी है। इसे बहुत प्रयोग में लाया गया—विशेषकर बुद्ध के द्वारा। और इस विधि के अनेक प्रकार

Read more
%d bloggers like this:
Sign up for OshoDhara Updates

Enter your email and Subscribe.

Subscribe!