ओशो सिद्धार्थ जी का साक्षात्कार (Interview) !

ओशो से बिल्कुल अलग नहीं है। ओशोधारा ओशो की ही परंपरा में है। जब भी कोई युगपुरुष आता है तो उसके बाद एक स्कूल तैयार हो जाता है जो कहता है कि आखिरी गुरु हो गया और अब आगे किसी गुरु की जरूरत नहीं है। जैसे बुद्ध आए, तो कहा गया कि वह आखिरी बुद्ध हैं। लेकिन बुद्ध के बाद मंजूश्री ने कहा कि परंपरा को अगर आगे ले जाना है तो आगे भी गुरु की जरूरत होगी। इसलिए मंजूश्री के साथ जो लोग चले, उन्हें महायानी कहा गया यानी गुरु एक जहाज की तरह होता है जिसमें अनेक लोग सवार होकर भवसागर को पार करते हैं। लेकिन बाकी शिष्यों ने कहा कि बुद्ध ने जो कहा, उसी को समझना काफी है। उन लोगों को हीनयान कहा गया। करीब-करीब सभी गुरुओं के साथ यही हुआ। हजरत मुहम्मद के साथ भी यही हुआ। लेकिन उनके बाद मौला अली से सूफियों की जीवंत परंपरा चली। सूफी भी गुरु परंपरा में विश्वास करते हैं। ओशो भी विदा हुए तो लोग ऐसी ही बात करने लगे लेकिन हम लोगों ने महसूस किया कि शास्त्र के आधार पर परंपरा जीवित नहीं रह सकती, शास्ता (बुद्ध पुरुष) के आधार पर जीवित रह सकती है। यही सोचकर मैंने ओशोधारा की शुरुआत की। फिर इसमें ओशो शैलेंद्र जी और मां प्रिया जुड़ीं।

Read more

“आतंकवादः कारण और निवारण” – ओशो सिद्धार्थ ‘औलिया’

गुरु से जुड़ोगे तो सिद्धि होगी, अनुभव होगा, अपने अनुभव से जिन्दगी को जियोगे। लेकिन अगर गुरु से नहीं जुड़े, सद्गुरु से नहीं जुडे़ और सिद्धांत से जुड़ गये हो, तो तुम्हारे जीवन में क्या होगा? जो सद्गुरु से नहीं जुड़े हैं, उनके जीवन में क्या हो रहा है? वे किसी न किसी वाद से जुड़ेंगे। वाद का मतलब- सिद्धांत। माओवाद, गांधावाद, लैनिनवाद और बड़े सारे वाद हैं। वहाबी वाद सबसे खतरनाक है। सलाफी वाद और भी खतरनाक है। क्योंकि जब वाद होगा तो विवाद भी होगा। यह हो ही नहीं सकता कि वाद हो और विवाद न हो। वाद, विवाद तक रूक जाए तो कोई दिक्कत नहीं, विवाद हो रहा है, बहस हो रही है। लेकिन जब विवाद होगा तो फसाद भी होगा। फसाद यानि हिंसा।

Read more

“आतंकवाद की जड़ कहां?” – ओशो शैलेन्द्र

स्वयं को परिवार, संस्था, समाज अथवा देश के ठेकेदार समझने वाले व्यक्ति को बारंबार सचेत कराने की जरूरत है कि अगर आपकी बात में दम है तो लोग स्वयं ही मानेंगे। यदि लोग नहीं मान रहे हैं तो मामला स्पष्ट है कि आपके विचार में प्राण नहीं हैं। सदा स्मरण रखें कि गणतंत्र में केवल बहुमत को ही नहीं, अल्पमत को भी जीने का बराबर हक है। बाहरी जगत से साम्राज्यवाद तो लगभग ‘आउट ऑफ डेट’ हो चुका है परंतु मनुष्य जाति के अवचेतन मन में ‘जंगल का कानून’ अभी तक गहरी जड़ें जमाए हुए है- ‘जिसकी लाठी, उसकी भैंस’!

Read more

“ओशो की मुख्य देशना” – ओशो शैलेन्द्र

ओशो से एक बार पूछा गया कि आप रोज सुबह-शाम डेढ़-डेढ़ घंटा प्रवचन देते हैं, हमें समझाते हैं, और पिछले कई सालों से बोल रहे हैं। क्या वह बात अभी तक पूरी नहीं हुई जो आप कहना चाहते हैं?
सदगुरु ने जवाब दिया कि वह बात ही अकथनीय है, वह भाषा में अभिव्यक्त नहीं होती। वह अवर्णनीय है, शब्दों में नहीं समाती। इसलिए मैं कितना ही बोलूं; वह बात कभी पूरी नहीं होगी। वह तो मौन में सुनी जाती है, बोली नहीं जाती। और एक दिन ऐसा आएगा कि जब मेरे शिष्य श्रवण में सक्षम हो जाएंगे, तब वे मेरे संग मौन सत्संग में बैठेंगे। मैं कुछ भी नहीं कहूंगा और तुम सुनोगे। वही असली बात होगी, उसके लिए मैं तुम्हें तैयार कर रहा हूं। थोड़ी रिहर्सल हो जाए चुप रहने की। शांत बैठने की तुम्हारी आदत हो जाए, तब असली बात होगी।
फिर एक दिन आया 25 मार्च 1981, जब ओशो ने घोषणा की, कि…

Read more

“Inner Journey: From Meditation To Nirvana” – Osho Siddharth

Inner journey starts with meditation. But the destination is Nirvana. And Samadhi is in middle. As a matter of fact, a seeker should have a complete mental picture of the inner journey. I have very much felt this. For example, if a tourist goes somewhere he has its complete route map. But the picture of the inner journey has not yet been presented properly.

But for the first time in Oshodhara we wish to give the complete picture of the inner journey. From where should a disciple begin? Which milestones will be there, and then where he has to go? In short I would like to say that Meditation is the beginning, Samadhi is the middle, Absolute Love is the destination. So understand these three words properly.

Read more

“God is Beyond Intellect” – Osho Siddharth

Mind, Intelligence & mind-stuff (Chitt) Neither of these three will lead us to our own ultimate core of being. It is only possible in our “Antar Gufa – Inner Cave.” In this cave there is no duality, there is no one to speak and to listen to. The word is not needed there. There exists the “Anahad Nad – The soundless Sound.” The Holy bible describes it as “Logos.” It is also called as Naam, your inner self, Omkar, the Ultimate sound. Omen, Amen, Om Mani Padme Hum are the different names of the same reality. To talk of it is not possible but each of us can experience it.

Read more

“Right Action (सम्यक कर्म)” – Osho Shailendra

Everybody is unique and extraordinary. Everybody is gifted with some creative talents. Flowering these talents is self-actualization and all actions guided in this direction strengthens our Buddha Nature and is known as Right Action or Samyak Karma which is one of the constituents of the Eight Fold Path of Lord Buddha.
We can start living our ordinary life in an extraordinary way. The simplest and most effective way of living an extraordinary life is living in awareness. Whatsoever we do, we should do it with self-remembrance. Our actions should be rooted in our consciousness and freedom, not in reaction of what others are doing. Reaction is not right action, it is governed by unconscious mind, and it is controlled by others. Reaction is never free. It has strong bondages with the person or principle we are reacting against.

Read more

“3 Sutras of Self-Realization” – Ma Osho Priya

We live in such a way that, there is nothing in present. Whatever was, there was in past and whatever will be, it will be in future. What is present, it never comes to our vision. And the truth is that present is the only truth. If you are not aware of present, then neither you can hear, neither you can understand and nor can the door of truth open.

Read more

“10 Sutras of Self Revolution” – Osho Shailendra

The guidelines of the revolution are the same. The way in which the revolution took place in my life; similarly it can take place in your life. It can take place in everyone’s life. In short I would like to speak on 10 sutras.
In my life as I was Osho’s younger brother, second, third and fourth step took place by itself. I began directly from the fifth step. Therefore my journey was very simple.

The vision of Master Osho has evolved my heart and beautified my life. It brought joy and bliss to my life. The fiction of the self has broken like a dream. The dust on the mirror of consciousness has been cleaned by His cooling breeze. My dark life has been illuminated by light. A fire of life has ignited a candle in the temple of my heart. Just giving the control of my life in His hands, I didn’t swim nor run in the river of the world but with His grace the boat of my life reached the other shore.

Read more

“ओशो की उपस्थिति का अनुभव ! ” – ओशो शैलेन्द्र

मैं इतने हजारों संन्यासी मित्राों से मिलता हूँ, और उनसे पूछता हूं कि आप ओशो की उपस्थिति किस रूप में अनुभव करने की कोशिश करते हैं? उन्हें कुछ भी पता नहीं है, इस मामले में बिल्कुल ही अन्धेरा छाया हुआ है। जबकि स्वयं ओशो ने खूब विस्तार से वर्णन किया है कि आप जिस सदगुरु से जुड़ने की कोशिश कर रहे हैं, अब वह कहां हैं, किस रूप में है , उनसे जुड़ने का अर्थ क्या है और उनसे जुड़ने की विधि क्या है? पंतजलि ने खूब अच्छे से समझाया है कि ओम को जपो, ओम पर ध्यान दो और ओम में डूबो। क्योंकि सदगुरु देह त्यागने के बाद अनहद-नाद हो जाते हैं। वे ओम का प्रकाश हो जाते हैं। यह नाम आपने सुना होगा? हमारे मुल्क में बहुत कामन नाम है ओमप्रकाश। कभी आपने ख्याल नहीं किया होगा ओमप्रकाश का अभिप्राय क्या है- ओंकार की रोशनी। ओंकार के दो रूप मुख्य हैं- एक ध्वनिमय रूप, एक प्रकाशमय रूप। गोरखनाथ पर प्रवचन देते हुए ‘मरौ हे जोगी मरौ में ओशो समझाते हैं गोरखनाथ का यह प्यारा वचन- ‘शब्द भया उजियाला।’

वह जो भीतर शब्द गूंज रहा हैं ओंकार का, जैसे वह प्रकाशित हो जाए, ऐसी अदभुत घटना घटती है। शब्द भया उजियाला। भीतर का अनाहत शब्द दो रूपों में प्रगट होता है- स्वर व उजाले की तरह। अशरीरी सदगुरु भी उसी आलोकित शब्द में समा जाते हैं।

Read more

“दुख से महासुख की ओर” – ओशो सिद्धार्थ

संसार इस मृगमरिचिका में पड़ा है कि कर्म से सुख मिलता है। लेकिन कर्म से सुख मिलता नहीं। सुख बाहर से मिलने की चीज़ ही नहीं है। ‘सुखस्य दुखस्य नवकोपिदाता, परोददाति इति विमूढ़चेता।’ सुख बाहर से मिलता नहीं। इसीलिए चौथा आर्य सत्य मैं कहना चाहूंगा कि सुख उपाय से नहीं मिलता, क्योंकि सुख बाहर से नहीं मिलता। अगर बाहर से मिलता हो, तो कुछ उपाय किए जा सकते हैं। लेकिन सुख बाहर से मिलता नहीं। इसलिए सुख का कोर्इ उपाय नहीं हो सकता। सुख जीवन की सहज अवस्था है। जिसको ओशो कहते हैं-‘परमात्मा तुम्हारा स्वभाव है।’ सुख तुम्हारा स्वभाव है। ‘आनंद आमार गोत्रा, उत्सव आमार जाति।’ आनंद तुम्हारा बीज है। सुख तुम्हारा बीज है। सुख अभी, यहीं और अकारण है। याद रखना सुख का कोर्इ कारण नहीं है। दुख का कारण है। सुख का कारण नहीं है। दुख का कारण क्या है-कामना।

Read more

“धर्म से धार्मिकता की ओर” – ओशो सिद्धार्थ

पहले तो यह समझें कि धर्म क्या है और धार्मिकता क्या है? धर्म के दो आयाम हैं- एक कट्टरता और दूसरा धार्मिकता। कट्टरता – जहाँ धर्म रुक जाता है। धार्मिकता – जहाँ धर्म प्रवाहित रहता है। कट्टरता कर्मकाण्ड में ले जाती है। धार्मिकता जीवन्तता में ले जाती है।

धर्म या तो आगे बढ़ेगा या पीछे जायेगा। अगर धर्म जीवन्त नहीं हो तो कट्टरता उसकी नियति है। तो पहली बात कि धर्म अपने आप में, स्वतन्त्र रूप में व्याख्येय नहीं है। धर्म का कौन-सा स्वरूप धार्मिकता का स्वरूप है, और कौन-सा रूप कट्टरता का स्वरूप है? जब भी कोई बुद्ध पुरुष आता है, जब भी कोई सद्गुरु आता है, जब भी कोई पूरा गुरु होता है, उस धर्म में तो धार्मिकता पैदा होती है और जब वह विदा हो जाता है, तो उसके पीछे एक राख रह जाती है और कट्टरता से कर्मकाण्ड का जन्म होता है।

Read more

“ओंकार है मुक्ति का द्वार” – ओशो सिद्धार्थ

मेरे प्रिय आत्मन, संत दादू 16 वी सदी के उत्तराद्र्ध में खिले अनूठे फूल हैं। कबीर की परंपरा जब आगे

Read more

“Generation Gap/पीढ़ी अंतराल कैसे दूर हो?” – ओशो शैलेन्द्र

प्रश्न: पीढ़ी अंतराल कैसे दूर होगा? मेरा बेटा मेरी बात मानने को जरा भी राजी नहीं होता, मैं क्या करूं?

Read more

सिद्धार्थ उपनिषद्

सदगुरु ओशो सिद्धार्थ जी ओशो नानक धाम में दर्शन दरबार में साधको से मिलते है | इस मिलन में सदगुरु एवं शिष्यों के बीच एक जीवंत उपनिषद् रचा जाता है |

Read more

“अंतर्यात्रा में गुरु की जरूरत” – ओशो शैलेन्द्र

प्रभु सर्वशक्तिमान नही है, ओमनीपोटेंट नही है, एक काम वह नही कर सकता, परमात्मा स्वयं परमात्मा का ज्ञान हमें नही दे सकता, गुरु ही वह कार्य कर सकता है।इसलिए इस भ्रम में नही रहना कि तुम्हें सीधा ज्ञान मिल जाएगा, बिना गुरु के हरि का ज्ञान नही हो सकता। यह कहावत ठीक ही है कि गुरु बिन होय न ज्ञान।

Read more
%d bloggers like this:
Sign up for OshoDhara Updates

Enter your email and Subscribe.

Subscribe!