“Inner Journey: From Meditation To Nirvana” – Osho Siddharth

Inner journey starts with meditation. But the destination is Nirvana. And Samadhi is in middle. As a matter of fact, a seeker should have a complete mental picture of the inner journey. I have very much felt this. For example, if a tourist goes somewhere he has its complete route map. But the picture of the inner journey has not yet been presented properly.

But for the first time in Oshodhara we wish to give the complete picture of the inner journey. From where should a disciple begin? Which milestones will be there, and then where he has to go? In short I would like to say that Meditation is the beginning, Samadhi is the middle, Absolute Love is the destination. So understand these three words properly.

Read more

“God is Beyond Intellect” – Osho Siddharth

Mind, Intelligence & mind-stuff (Chitt) Neither of these three will lead us to our own ultimate core of being. It is only possible in our “Antar Gufa – Inner Cave.” In this cave there is no duality, there is no one to speak and to listen to. The word is not needed there. There exists the “Anahad Nad – The soundless Sound.” The Holy bible describes it as “Logos.” It is also called as Naam, your inner self, Omkar, the Ultimate sound. Omen, Amen, Om Mani Padme Hum are the different names of the same reality. To talk of it is not possible but each of us can experience it.

Read more

“दुख से महासुख की ओर” – ओशो सिद्धार्थ

संसार इस मृगमरिचिका में पड़ा है कि कर्म से सुख मिलता है। लेकिन कर्म से सुख मिलता नहीं। सुख बाहर से मिलने की चीज़ ही नहीं है। ‘सुखस्य दुखस्य नवकोपिदाता, परोददाति इति विमूढ़चेता।’ सुख बाहर से मिलता नहीं। इसीलिए चौथा आर्य सत्य मैं कहना चाहूंगा कि सुख उपाय से नहीं मिलता, क्योंकि सुख बाहर से नहीं मिलता। अगर बाहर से मिलता हो, तो कुछ उपाय किए जा सकते हैं। लेकिन सुख बाहर से मिलता नहीं। इसलिए सुख का कोर्इ उपाय नहीं हो सकता। सुख जीवन की सहज अवस्था है। जिसको ओशो कहते हैं-‘परमात्मा तुम्हारा स्वभाव है।’ सुख तुम्हारा स्वभाव है। ‘आनंद आमार गोत्रा, उत्सव आमार जाति।’ आनंद तुम्हारा बीज है। सुख तुम्हारा बीज है। सुख अभी, यहीं और अकारण है। याद रखना सुख का कोर्इ कारण नहीं है। दुख का कारण है। सुख का कारण नहीं है। दुख का कारण क्या है-कामना।

Read more

“धर्म से धार्मिकता की ओर” – ओशो सिद्धार्थ

पहले तो यह समझें कि धर्म क्या है और धार्मिकता क्या है? धर्म के दो आयाम हैं- एक कट्टरता और दूसरा धार्मिकता। कट्टरता – जहाँ धर्म रुक जाता है। धार्मिकता – जहाँ धर्म प्रवाहित रहता है। कट्टरता कर्मकाण्ड में ले जाती है। धार्मिकता जीवन्तता में ले जाती है।

धर्म या तो आगे बढ़ेगा या पीछे जायेगा। अगर धर्म जीवन्त नहीं हो तो कट्टरता उसकी नियति है। तो पहली बात कि धर्म अपने आप में, स्वतन्त्र रूप में व्याख्येय नहीं है। धर्म का कौन-सा स्वरूप धार्मिकता का स्वरूप है, और कौन-सा रूप कट्टरता का स्वरूप है? जब भी कोई बुद्ध पुरुष आता है, जब भी कोई सद्गुरु आता है, जब भी कोई पूरा गुरु होता है, उस धर्म में तो धार्मिकता पैदा होती है और जब वह विदा हो जाता है, तो उसके पीछे एक राख रह जाती है और कट्टरता से कर्मकाण्ड का जन्म होता है।

Read more

“ओंकार है मुक्ति का द्वार” – ओशो सिद्धार्थ

मेरे प्रिय आत्मन, संत दादू 16 वी सदी के उत्तराद्र्ध में खिले अनूठे फूल हैं। कबीर की परंपरा जब आगे

Read more

सिद्धार्थ उपनिषद्

सदगुरु ओशो सिद्धार्थ जी ओशो नानक धाम में दर्शन दरबार में साधको से मिलते है | इस मिलन में सदगुरु एवं शिष्यों के बीच एक जीवंत उपनिषद् रचा जाता है |

Read more

“Siddharth Upanishad” – THUS SPAKE THE MASTERS

The Sanskrit term ‘Upaniṣhad’ (u = at, pa = foot, nishat =sitting down) translates to “sitting at the foot/feet of”,

Read more

How to make Life Beautiful? – Osho Siddharth

There are four kinds of Sumiran or divine remembrance, namely: • Sumiran through the mouth • Sumiran through the mind: This is a stage higher. We move a step inward from the mouth to the mind. • Sumiran through the Heart or Love: This is yet higher type of devotion but yet not the peak is achieved. • Sumiran through Being: When devotion starts happening through your entire being or one is totally dissolved in Sumiran then it is the climax.

Read more
%d bloggers like this:
Sign up for OshoDhara Updates

Enter your email and Subscribe.

Subscribe!